K G F Suprestar Yash के लिए आसान नहीं था हीरो बनना। क्या क्या नहीं करना पड़ा एक्टर बनने के लिए।

K G F Star Yash साउथ फिल्म इंडस्ट्री के Superstar है। K.G.F Chapter 1 की सफलता के बाद उन्हें दुनियाभर के लोग उन्हें जानने लगे है। K.G.F में अपने शानदार अभिनय के कारण प्रशंषको के दिलो पर राज करने लगे है। Yash  बॉलीवुड के हीरोज तक पर भारी पड़ गए थे।Yash के फैंस बड़ी ही बेसब्री से उनकी फिल्म K.G.F Chapter 2 का इंतज़ार कर रहे है। लेकिन उनके प्रशंषको को फिलहाल अभी इंतज़ार करना पड़ेगा और कब तक ये कहना मुश्किल है क्योंकि कोरोना वायरस Covid-19 के कारण पुरे देशभर में lockdown है और लगभग सभी चीज़े रुकी हुई है।

लेकिन इसी बीच Yash के बारे में एक रोचक कहानी जानने को मिली है। Yash के एक पुराने इंटरव्यू जो की उन्होंने  “द न्यूज मिनट” को दिया था, उस दौरान उन्होंने अपने संघर्ष के बारे में बताया। कैसे वो अपने घर से भाग गए । Yash ने बताया की, मैं अपने घर से भाग गया और जब मैं Bengaluru पहुंचा तो बिलकुल से डर ही गया इतना बड़ा, डराने वाला शहर। लेकिन मैं हमेश आत्मविश्वाश से भरपूर लड़का था । मैं संघर्ष करने से नहीं डरता था। मैं जब बेंगलुरु पंहुचा था तब मेरे पास सिर्फ 300 रुपए थे। मुझे पता था की अगर मैं वापस चला गया तो मेरे माता – पिता कभी भी यहाँ फिर से लौटने की अनुमति नहीं देंगे। मेरे माता – पिता ने मुझे एक अंतिम चेतावनी दी। मैं एक अभिनेता के रूप में अपनी किस्मत आजमाने के लिए स्वतंत्र था, लेकिन उसके बाद अगर यह नहीं हुआ तो मुझे वो करना होगा जो मेरे माता – पिता मुझे कहते।

Yash ने आगे खुलासा किया की, मेरे माता – पिता ने सोचा था की मैं वापस आ जाऊंगा। पर मैंने थिएटर करना शुरू कर दिया। मेरा सौभाग्य था की कोई मुझे थिएटर करने के लिए ले गया था। मुझे थिएटर के बारे में कुछ पता नहीं था। मैंने backstage पैसे बनाना शुरू कर दिया। शुरुआत में मुझे जो काम मिला वो मैंने किया। शुरू में मैंने कन्नड़ फिल्म में एक डायरेक्टर को असिस्ट भी किया था , मैंने बहुत यात्राएं की। लोगो ने स्टेज पर मेरा अपीयरेंस नोटिस करना शुरू कर दिया था।

Yash के बारे मैं एक और बात बता दे की उनका असल नाम Yash नहीं बल्कि Navin Kumar है। उन्होंने अपनी फ़िल्मी करियर की शुरुआत साल 2007 में “जंबड़ा हुदुगी” से की थी और फिर साल 2008 में “मोगिना मनसु” में काम किया। इसमें उन्होंने राधिका के अपोजिट काम किया है जो की रियल लाइफ में अब उनकी पत्नी (wife) है। फिल्म सफल रही और उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का filmfare अवार्ड मिला। इसके बाद उन्होंने साल 2010 में “मोडलासाला” 2011 में “राजधानी”…कीरटका (2011), ड्रामा (2012), गूगली (2013), राजा हुली (2013), गजकेशरी (2014), मिस्टर एंड मिसेज रामचारी (2014), कृति (2015) और केजीएफ: चैप्टर 1 (2018) सहित कई व्यावसायिक रूप से सफल फिल्मों में अभिनय किया।

यश क लिए आसान नहीं था ये सफर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares